Welcome to NBCC
NBCC Ltd.

निदेशक मंडल

डॉ. अनूप कुमार मित्तल
अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक

डॉ. अनूप कुमार मित्तल 01 मार्च,1985 को एनबीसीसी में भर्ती हुए। तत्पश्चात 1 अप्रैल 2013 को अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक का पदभार ग्रहण किया। अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक का पदभार ग्रहण करने से पूर्व डॉ. मित्तल दिनांक 05 दिसंबर,2011 से निदेशक (परियोजनाएं) के रूप में कार्यरत थे। डॉ. मित्तल थापर इन्स्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नालॉजी जोकि आज डीम्ड विश्वविद्‌यालय है से सिविल इंजीनियरी में स्नातक उपाधि प्राप्त की है। सिविल तथा निर्माण इंजीनियरी में अर्जित विशिष्ट उपलब्धियों के कारण सिंघानिया विश्वविद्‌यालय के कुलाधिपति द्‌वारा उन्हें "डॉक्टर ऑफ फिलासॉफी" (मानद उपाधि) प्रदान की गई है। नवंबर,2013 में आयोजित वार्षिक दीक्षांत समारोह में उन्हें डॉक्टरेट उपाधि से सम्मानित किया गया। अपने क्षेत्र में गहन ज्ञान एवं विशेषज्ञता के बल पर उन्होंने कई उल्लेख्ननीय परियोजनाओं का कार्य लिया तथा उन्हें सफलतापूर्वक निष्पादित किया। अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के रूप में डॉ. मित्तल नीतिगत तथा योजनाबद्ध निर्णय लेते हैं।

श्री एस.के. पाल
निदेशक (वित्त)

श्री एस.के. पाल 01फरवरी, 2013 को एनबीसीसी में निदेशक (वित्त) के पद पर नियुक्त हुए। वित्त प्रमुख होने के अलावा वे निगम के बोर्ड अनुभाग, स्थावर संपदा प्रभाग, और प्रशिक्षण एवं सीएसआर प्रभाग के समग्र प्रभारी भी हैं। वह एफसीए, एसीएस हैं तथा कलकत्ता विश्वविद्यालय से बी. कॉम की उपाधि प्राप्त है। श्री पाल ने भारत तथा विदेश में निजी तथा सार्वजनिक क्षेत्र के विभिन्न संगठनों में सेवा की है। रेल मंत्रालय के सीपीएसयू, इरकॉन इंटरनेशनल लिमिटेड (इरकॉन) में महाप्रबंधक (वित्त) के रूप में सेवा की है।उन्हें अपने क्षेत्र में 32 वर्षों से अधिक का अनुभव है।

श्री एस.के. चौधरी
निदेशक (परियोजनाएं)

श्री एस.के. चौधरी,निदेशक (परियोजनाएं) के रूप में 13 नवम्बर, 2013 को एनबीसीसी में शामिल हुए। श्री चौधरी ने दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग (डीसीई) से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक उपाधि और आईआईटी, दिल्ली से प्रबंधन में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त की है। परियोजना के वित्त पोषण,परियोजना प्रबंधन और व्यापार विकास में उन्हें विशेषज्ञता प्राप्त है। इससे पहले श्री चौधरी वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक के रूप में हडको में सेवारत रहे हैं। एनबीसीसी के निदेशक (परियोजना) के रूप में श्री चौधरी की नियुक्ति, संगठन के हित में एक बेहद सकारात्मक कदम के रूप में माना जाता है। पिछले 32 सालों के दौरान आपने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय परियोजनाओं को क्रियान्वित करने और प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

श्री राजेन्द्र चौधरी
निदेशक (वाणिज्य)

श्री राजेन्द्र चौधरी 12 सितंबर, 2005 को एनबीसीसी में शामिल हुए। भारत सरकार द्वारा दिनाँक 10/06/2015 को कंपनी में निदेशक (वाणिज्य ) के रूप में नियुक्त होने से पूर्व उन्होंने विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर कंपनी की सेवा की है । निदेशक (वाणिज्य) का पदभार ग्रहण करने से पहले, श्री चौधरी एनबीसीसी में वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक (वाणिज्य) के पद पर कंपनी के प्रचालन में मुख्य रूप से स्थावर संपदा ( रियल एस्टेट) खंड के संचालन का कार्य देख रहे थे। इसके अलावा, वह एनबीसीसी के कुछ प्रमुख विभाग जैसे परामर्श, सिस्टम, प्रशासन और सीएसआर के प्रमुख के रूप में कार्य देख रहे थे। श्री चौधरी महाराजा सयाजीराव विश्वविद्यालय, बड़ौदा (गुजरात) से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक हैं और डिजिटल डायनामिक्स में अपनी रुचि के लिए जाने जाते है। वर्ष 2005 में एनबीसीसी में शामिल होने से पहले उन्होंने एक और सीपीएसई वेस्टर्न कोल फील्ड्स, में कार्य किया है।

श्री डी.एस. मिश्रा

श्री डी.एस. मिश्रा,आईएएस, नेशनल बिल्डिंग्स कन्स्ट्रक्शन कार्पोरेशन लिमिटेड के निदेशक मंडल में निदेशक है इनकी नियुक्ति शहरी विकास मंत्रालय द्वारा की गई है। श्री मिश्रा, 1984 बैच के यूपी काडर आईएएस अधिकारी हैं वर्तमान में वह शहरी विकास मंत्रालय, भारत सरकार में अपर सचिव(शहरी विकास) हैं। उन्होंने आईआईटी, कानपुर से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरी में बी.टेक उपाधि प्राप्त की है।इससे पूर्व श्री मिश्रा ने गृह मंत्रालय में निदेशक(कार्मिक) तथा संयुक्त सचिव (फारेनर्स); भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण में मुख्य सतर्कता अधिकारी तथा खान मंत्रालय में संयुक्त सचिव के पदों पर कार्य किया है।

श्रीमती झंजा त्रिपाठी

श्रीमती झंजा त्रिपाठी, नेशनल बिल्डिंग्स कन्स्ट्रक्शन कार्पोरेशन लिमिटेड के निदेशक मंडल में निदेशक है इनकी नियुक्ति शहरी विकास मंत्रालय द्वारा की गई है। श्रीमती त्रिपाठी 1986 बैच की आईआरएएस अधिकारी हैं। वे साइकोलॉजी में स्नातकोत्तर उपाधि धारक हैं तथा इंडस्ट्रियल रिलेशन तथा पर्सनल मैनेजमेंट में पीजी डिप्लोमा प्राप्त किया है। वर्तमान में वह शहरी विकास मंत्रालय, में संयुक्त सचिव तथा वित्तीय सलाहकार के रूप में पद धारण किए हुए हैं। एमओयूडी में कार्य ग्रहण करने से पहले श्रीमती त्रिपाठी , उत्तर रेलवे , रेल मंत्रालय, भारत सरकार में वित्तीय सलाहकार तथा मुख्य लेखा अधिकारी के पद पर कार्यरत थीं। उन्हें रेलवे तथा अन्य केंद्रीय मंत्रालयों के प्रमुख पदों पर कार्य करने का 28 वर्षों का अनुभव प्राप्त है।एनबीसीसी के अलावा वह हाउसिंग तथा अर्बन डेवलपमेंट कार्पोरेशन लिमिटेड (हडको), हिंदुस्तान प्रीफैब लिमिटेड तथा कोलकाता मेट्रो रेल कार्पोरेशन (केएमआरसी) के निदेशक मंडल की भी निदेशक हैं।