Welcome to NBCC
NBCC Ltd.

वरिष्ठ अधिकारियों

श्री टी एन के सिंह
कार्यकारी निदेशक

श्री टीएनके सिंह ने हरिद्वार में भेल संयंत्र के काम से 04.11.1982 से एनबीसीसी में कैरियर शुरू किया। उन्होंने सिविल में बीएससी इंजी. उपाधि प्राप्त की है। वर्तमान में वह कार्यकारी निदेशक (इंजीनियरी) की हैसियत से कोलकाता में कार्यरत हैं।

श्री पी. के. सेठ
कार्यकारी निदेशक

श्री परविंदर कुमार सेठ 08/08/1985 को सहायक अभियंता ग्रेड I. के रूप में एनबीसीसी में शामिल हुए तथा सफलता की सीढ़ियाँ पार करते हुए कार्यकारी निदेशक (इंजी) के पद पर कार्यरत हैं। श्री सेठ ने इंजीनियरिंग संस्थान, कलकत्ता से एएमआईई (सिविल इंजीनियरिंग) की डिग्री प्राप्त की है। श्री सेठ आरबीजी, एसबीजी और जोनल हेड के रूप में विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न पदों पर पिछले 37 वर्षों से अपनी सेवा प्रदान कर रहे हैं। उन्होंने केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग में अपने कैरियर की शुरूआत की तथा सीएसआईआर कार्य, महारानी बाग, एनएए निर्माण, पालम सीएनपी, नासिक, गुवाहाटी जोन, पटना क्षेत्र, पूर्वी किदवई नगर आदि प्रतिष्ठित परियोजनाओं का नेतृत्व किया। वर्तमान में आप संगठनात्मक संरचना में महत्वपूर्ण व्यक्ति हैं और परियोजना प्रबंधन समूह के कार्यकारी निदेशक है जिसमें वह भारत और विदेश में सभी परियोजनाओं की निगरानी, मंत्रालय के साथ संपर्क कार्य देख रहे हैं। आप मंत्रालय का साथ समझौता ज्ञापन तथा आरबीजी / एसबीजी / विभागाध्यक्ष के साथ समझौता ज्ञापन के लिए प्रभारी अधिकारी है और सक्षम प्राधिकारी के साथ परामर्श से उनके प्रदर्शन कार्य निष्पादन की समीक्षा करते हैं। आप अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के कर्मचारियों के कल्याण के लिए संपर्क अधिकारी हैं।

श्री एन.के. शाह
कार्यकारी निदेशक

श्री नीलेश शाह 20 सितंबर 1985 को सहायक अभियंता के रूप में एनबीसीसी में शामिल हुए तथा 1 अक्टूबर, 2013 से कार्यकारी निदेशक के रूप कार्य कर रहे हैं। श्री नीलेश शाह कार्यकारी निदेशक का कार्यभार संभालने से पहले 1 अप्रैल, 2010 से वरिष्ठ महाप्रबंधक के पद पर कार्य कर रहे थे। उन्होंने रविशंकर विश्वविद्यालय, रायपुर (मध्य प्रदेश), जो अब एक डीम्ड विश्वविद्यालय है, से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक डिग्री (ऑनर्स) प्राप्त की है। अपने क्षेत्र में ज्ञान और विशेषज्ञता के साथ उन्होंने कई उल्लेखनीय परियोजनाओं को सफलतापूर्वक क्रियान्वित किया। उन्हें एनबीसीसी लिमिटेड में कई महत्वपूर्ण पदों पर 30 वर्ष से अधिक कार्य करने का अनुभव प्राप्त है और एनबीसीसी लिमिटेड के लिए देश तथा विदेश में कई ऐतिहासिक उल्लेखनीय परियोजनाएं निष्पादित की हैं। कार्यकारी निदेशक के रूप में, श्री नीलेश शाह नई परियोजनाओं का विकास, भूमि खरीद, निष्पादन और विपणन सहित एनबीसीसी के स्थावर संपदा के सभी मामलों देखते हैं।

श्री ए के गुप्ता
कार्यकारी निदेशक

श्री ए.के. गुप्ता 22 जनवरी 1982 को सहायक अभियंता, ग्रेड -1 के रूप में एनबीसीसी में शामिल हुए तथा वर्तमान में वह 1 नवंबर,2013 से कार्यकारी निदेशक के रूप में कर्य कर रहे हैं।श्री गुप्ता सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक हैं और इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स, नई दिल्ली से एएमआईई डिग्री प्राप्त की है।
श्री गुप्ता ने वर्ष 1977 में सीपीडब्ल्यूडी से अपने कैरियर शुरू किया और उसके बाद 1978 से 1981 तक एनडीएमसी में कार्य किया। कार्यकारी निदेशक के रूप में कार्यभार संभालने से पहले श्री गुप्ता विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न पदों पर एसबीजी प्रमुख तथा जोनल प्रमुख के रूप में पिछले 30 वर्षों से अपनी सेवाएं दी है।
वर्तमान में, वह संगठनात्मक संरचना में महत्वपूर्ण व्यक्ति हैं और वह कार्यकारी निदेशक और पूर्वोत्तर क्षेत्र के आरबीजी प्रमुख के पद पर कार्य कर रहे हैं। क्षेत्र में अपने ज्ञान और क्षमता के बूते पर कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं को पूर्ण किया है जिनमें नेहरू स्टेडियम, नई दिल्ली के पास "स्कोप" कार्यालय परिसर, सिडको, नई मुंबई के लिए सनपडा में "सामूहिक आवास परियोजना", मणिपुर में "बीटी फ्लाईओवर" का निर्माण ,कोलकाता में एनएसजी के लिए अवसंरचना आदि।

श्री एस डी शर्मा
कार्यकारी निदेशक

श्री शंभू दयाल शर्मा एनबीसीसी में कार्यकारी निदेशक (इंजी), है तथा वर्तमान में आरबीजी प्रमुख (दक्षिण) के रूप में चेन्नई में कार्य कर रहे हैं। श्री शर्मा आरईसी, कुरुक्षेत्र (वर्तमान में एनआईटी) से ऑनर्स के साथ सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक उपाधि प्राप्त हैं। श्री शर्मा दिसंबर 1984 में एनबीसीसी में शामिल हुए और उन्हें अपने प्रोफेशनल कैरियर में 32 साल से अधिक का अनुभव प्राप्त है। इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स (इंडिया) और इंडियन इंसटीट्‌यूट ऑफ टेक्नीकल आर्बीट्रेटर के फेलो, श्री शर्मा आईई (आई) के चार्टर्ड इंजीनियर हैं और आईआईएम कलकत्ता से पीएलएम प्रमाणन प्राप्त किया है। उन्हें भारतीय बिल्डिंग कांग्रेस और भारतीय सड़क कांग्रेस की आजीवन सदस्यता प्राप्त है। इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अपने बेहतर प्रदर्शन के लिए श्री शर्मा को इकोनॉमिक रिसर्च इंडिया द्वारा सुप्रीम इंजीनियर्स पुरस्कार -2012 तथा इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स (इंडिया) द्वारा दक्षिण क्षेत्र में एनबीसीसी के लिए सुरक्षा एवं गुणवत्ता पुरस्कार- 2011 प्राप्त हुआ। कंपनी की अंतर्राष्ट्रीय परियोजना के रूप में तुर्की में मरमारा भूकंप आपातकालीन पुनर्निर्माण में उनकी उपलब्धि के लिए, श्री शर्मा को तुर्की सरकार की ओर से प्रशंसा प्राप्त हुई। एनबीसीसी में शामिल होने से पहले, उन्होंने आवास परियोजनाओं को क्रियान्वित करने के लिए एक निर्माण संगठन के साथ एक छोटे से कार्यकाल में कार्य किया।

श्री हेम राज
कार्यकारी निदेशक

श्री हेम राज वर्तमान में निगम मुख्यालय में कंपनी के कार्यकारी निदेशक (मानव संसाधन विकास ) के पद पर कार्यरत हैं। अपने मुख्य कार्य के अलावा, वह भी कॉर्पोरेट एम्पैनलमेंट प्रभाग, कॉर्पोरेट संचार और बाहरी प्रशिक्षण विंग का अतिरिक्त प्रभार देख रहे हैं और उन्हें आरटीआई मामलों में कंपनी के प्रथम अपीलीय प्राधिकारी के रूप में काम करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। कारपोरेट कार्यालय में अपनी वर्तमान जिम्मेदारियों का पदभार ग्रहण करने से पहले, श्री हेम राज समय-समय पर कंपनी के विभिन्न जोनों के प्रमुख के रूप में एनबीसीसी की विभिन्न प्रतिष्ठित परियोजनाओं के निष्पादन का कार्य देख रहे थे। बाद में मुख्यालय में कार्यकारी निदेशक (तकनीकी) के रूप में वह परामर्श, अनुसंधान तथा विकास, संरक्षा, गुणवत्ता ऑडिट प्रभागों के प्रमुख के रूप में कार्य कर रहे हैं।
पेशे से सिविल इंजीनियरिंग ग्रेजुएट तथा फेलो ऑफ इंस्टीट्‌यूट ऑफ इंजीनियर्स (आई) श्री हेम राज को अपने क्षेत्र में 38 वर्ष का कार्य अनुभव प्राप्त है। वर्ष 1977 में भारत सरकार के केन्द्रीय जल आयोग के साथ उन्होंने अपने कैरियर की शुरुआत की थी। वह 18 जनवरी 1982 को एनबीसीसी में शामिल हुए थे।

श्री एन पी अग्रवाल
कार्यकारी निदेशक

श्री एनपी अग्रवाल 5 नवंबर, 1984 को एनबीसीसी में शामिल हुए और बाद में सफलता की सीढि‌याँ चढ़ते हुए कार्यकारी निदेशक (व्यापार प्रसार) बने हैं। श्री अग्रवाल ने बंगलौर विश्वविद्यालय से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री हासिल की है। उन्होंने विभिन्न पदों पर 30 साल के लिए संगठन की सेवा की है तथा रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण सतर्कता, कंसल्टेंसी, और इंफ्रास्ट्रक्चर के अलावा देश में तथा विदेशी परियोजनाओं के रूप में निर्माण क्षेत्र के विभिन्न पहलुओं के बारे में गहरी अंतर्दृष्टि प्राप्त की है। संविदा इंजीनियरिंग फंक्शन का प्रभार संभालने के अलावा वह विभिन्न मामलों में एक मध्यस्थ हैं। एनबीसीसी के विदेशी प्रचालनों के कार्य के साथ एनबीसीसी द्वारा निष्पादित विभिन्न ऐतिहासिक परियोजनाओं जैसे चिमनी, कूलिंग टॉवर कार्य, ऊर्जा संयंत्र कार्य के निषपादन का श्रेय उन्हें जाता है। वर्तमान में, वह व्यापार के लक्ष्यों और विकास को प्राप्त करने में संगठन के लिए महत्वपूर्ण व्यापार प्रसार प्रभाग के प्रमुख के रूप में कार्यरत है।