1960

निगमिकरण

1977

विदेशी बाज़ार में प्रवेश

1988

स्थावर संपदा क्षेत्र में विविधिकृत

2008

ऋण मुक्त कंपनी बनी

2012

आईपीओ जारी किया तथा मिनी रत्न दर्जा प्राप्त

2014

नवरत्न दर्जा प्राप्त तथा प्रथम सहायक कंपनी एनएसएल का गठन

2018

अब तक की सबसे अधिक, भारतीय 80,000 करोड़ रुपये से अधिक की आदेश बही